On being a traveller


मगर अब ना मैं अपने घर का रहा
सफर का ही था मैं, सफर का रहा

इधर का ही हूं ना उधर का रहा
सफर का ही था मैं, सफर का रहा

शहर शहर फुर्सतों को बेचता रहा
खाली हाथ जाता, खाली लौटता रहा

ये उम्र, वक़्त, रास्ता…गुज़रता रहा
सफर का ही था मैं, सफर का रहा

इधर का ही हूं ना उधर का रहा
सफर का ही था मैं, सफर का रहा


Magar ab na main apne ghar ka raha
Safar ka hi tha main safar ka raha

Idhar ka hi hoon na udhar ka raha
Safar ka hi tha main safar ka raha

Shehar shehar fursaton ko bechta hoon
Khaali haath jaata khaali laut.ta hoon

Ye umr, waqt, raasta…guzarta raha
Safar ka hi tha main safar ka raha

Idhar ka hi hoon na udhar ka raha
Safar ka hi tha main safar ka raha