on experience and deceit

जिन्दगी की दौड़ में,
तजुर्बा कच्चा ही रह गया…
हम सिख न पाये ‘फरेब’
और दिल बच्चा ही रह गया..