On being picky

मेरे हुजरे में नहीं और कहीं पर रख दो
आसमां लाये हो? ले आयो ज़मीन पर रख दो
अब कहां ढूंढने जाओगे हमारे कातिल
आप तो कतल का इलज़ाम हमीं पर रख दो

Mere Hujre maiN Nahi aur kahiN per rakhdo….
Aasman laye ho? Le aao ZameeN par rakh do….

Ab kahaN dhuNdne jaogey humarey qaatil,
Ap to qaatl ka ilzaam humi par rakh do…

Rahat Indori -Mere Hujre maiN Nahi – Aashnai e Shayri