On understand the life

गरीबी से उठा हूँ, गरीबी का दर्द जानता हूँ,

आसमाँ से ज्यादा जमीं की कद्र जानता हूँ।

लचीला पेड़ था जो झेल गया आँधिया,

मैं मगरूर दरख्तों का हश्र जानता हूँ।

साधारण से विषेश बनना आसाँ नहीं होता,

जिन्दगी में कितना जरुरी है सब्र जानता हूँ।

मेहनत बढ़ी तो किस्मत भी बढ़ चली,

छालों में छिपी लकीरों का असर जानता हूँ।

कुछ पाया पर अपना कुछ नहीं माना,क्योंकि,

आखिरी ठिकाना मैं सिकन्दर का हश्र जानता हूँ।

Shayri