On गुमराह

मंजिल तो मिल ही जाएगी, भटक के ही सही;

गुमराह तो वो हैं जो घर से निकले ही नहीं;

Source