on death

मौत तू एक कविता है
मुझसे एक कविता का वादा है मिलेगी मुझको
डूबती नब्जों में जब दर्द को नींद आने लगे
ज़र्द सा चेहरा लिए चाँद उफ़क़ तक पहुंचे
दिन अभी पानी में हो
रात किनारे के करीब
न अँधेरा न उजाला हो
न अभी रात न दिन
जिस्म जब ख़त्म हो
और रूह को जब सांस आये
मुझसे एक कविता का वादा है मिलेगी मुझको ||

Source: आनंद मरा नहीं, आनंद मरते नहीं ! | Dangling Contemplations…