काश थोड़ा वक़्त होता

बस यही दो मसले, जिंदगी भर ना हल हुए
ना नींद पूरी हुई, ना ख्वाब मुकम्मल हुए,

वक़्त ने कहा…..काश थोड़ा और सब्र होता
सब्र ने कहा….काश थोड़ा और वक़्त होता,

सुबह सुबह उठना पड़ता है कमाने के लिए साहेब
आराम कमाने निकलता हूँ आराम छोड़कर,

शिकायते तो बहुत है तुझ से ऐ जिन्दगी,
पर चुप इसलिये हूँ कि, जो दिया तूने,
वो भी बहुतो को नसीब नहीं होता|

Source: काश थोड़ा वक़्त होता| | Good Thought